ब्लॉग प्रसारण पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!!!

वैसे तो इस तरह के तमाम ब्लॉग उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं. इस ब्लॉग को शुरू करने का हमारा उद्देश्य कम फोलोवर्स से जूझ रहे ब्लॉग्स का प्रचार करना एवं वे लोग जो ब्लॉग बनाना चाहते हैं परन्तु अज्ञान वश बना नहीं पाते या फिर अपने ब्लॉग का रूप, रंग ढंग नहीं बदल पाते उनकी समस्या का समाधान करना भी है. परन्तु यदि नए ब्लॉग नवीनीकरण (अर्थात update ) नहीं होंगे उनके लिंक नहीं लगाये जायेंगे उनकी जगह अन्य लिनक्स को स्थान दिया जायेगा. साथ ही साथ प्रतिदिन एक या दो विशेष रचना "विशेष रचना कोना' पर प्रस्तुत की जायेंगी और "परिचय कोना" पर परिचय भी दिया जायेगा. ब्लॉग में किसी भी तरह की समस्या को इस पते पर लिख भेजें : blogprasaran@gmail.com समाधान हेतु यथासंभव प्रयास किया जायेगा....

नोट : सभी ब्लॉग प्रसारण कर्ता मित्रों से अनुरोध है कि वे अपने पसंद के सीमित लिंक्स अर्थात अधिकतम (10-15) ही लिंक्स लगायें ताकि सभी लिंक्स पर पहुंचा जा सके.


मित्र - मंडली

पृष्ठ

ब्लॉग प्रसारण परिवार में आप सभी का ह्रदयतल से स्वागत एवं अभिनन्दन


Thursday, September 26, 2013

ब्लॉग प्रसारण : अंक 128

 नमस्कार मित्रों,
                   आज के इस १२८ वें अंक में आप सभी का मैं राजेंद्र कुमार आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ। एक बार फिर मैं अपनी पसंद के कुछ चुनिंदा लिंक्स लेकर आपके समक्ष उपस्थित हुआ हूं।आशा है आप सब पहले की ही तरह अपना स्नेह बनाये रखेंगे,तो आइये एक नजर डालते है आज के प्रसारण की तरफ...


मन की किताब
ऋता शेखर मधु 
मन की किताब
कुछ खुले पृष्ठ
कुछ अधखुले से
कुछ मुड़े तुड़े
कुछ बन्द से

सत्तइसा के पूत पर, पढ़ते मियाँ मिलाद
रविकर जी 

टोपी बुर्के कीमती, सियासती उन्माद |
सत्तइसा के पूत पर, पढ़ते मियाँ मिलाद |

पढ़ते मियाँ मिलाद, तिजारत हो वोटों की |
ढूँढे टोटीदार, जरुरत कुछ लोटों की |

रविकर ऐसा देख, पार्टियां वो ही कोपी |
अब तक उल्लू सीध, करे पहना जो टोपी |


न्यायपालिका के पंख कुतरने की कोशिश
श्यामल सुमन
"यह आरोप मेरी बढ़ती लोकप्रियता के कारण विरोधियों ने साजिश के तहत लगाया है" - "मुझे भारत की न्याय प्रणाली पर पूरा भरोसा है" - आदि आदि ---पिछले २-३ दशकों से आरोपी रहनुमाओं के ऐसे खोखले बयान सुन सुनकर हम सभी आजिज हो गए हैं। 


कहने को साँसें चलतीं पर जीवन है लाचार यहाँ
सत्ता की सारी मनमानी क्यों करते स्वीकार यहाँ

उद्देश्य ब्लोगिंग का 
 सतीश सक्सेना
सन २००५ में पहली बार अपना ब्लोगर अकाउंट बनाया था , मगर पहली पोस्ट २४ मई २००८ को प्रकाशित की गयी जब.…

अहिल्‍या - ना शबरी..
अलकनंदा सिंह
हे सखा...हे ईश्‍वर..क्षीर नीर करके
दुनिया को भरमाया तुमने
पर मुझे न यूं बहला पाओगे



छाँव इन्हीं की सारे तीरथ.....
अरुण कुमार निगम
आल्हा छंद (16 और 15 मात्राओं पर यति. अंत में गुरु-लघु)

बीते कल ने आने वाले , कल का थामा झुक कर हाथ
और कहा कानों में चुपके , चलना सदा समय के साथ ||

ख्वाहिश.....
पूनम 

नज़र की ख्वाहिश का दिल बीमार था रोता रहा..
रात भर आँखों से .... तेरा इंतजार होता रहा..!!

bitiya
Kuldeep Dingh
आ गयी घर में एक नन्ही सी कली,
जिसकी मुस्कान की खुशियाँ इस दिल में हैं पली,
वो निभाएगी दायित्व और सर फख्र से ऊँचा होगा,
जिस अरमान को उसके आगमन पे सींचा होगा,

खाली हुआ जो वही भरा
अनिता 
निर्मलता शांति को प्रकट करती है. आकाश यदि घनमालाओं से आवृत हो तो इतना विशाल प्रतीत नहीं होता, शुभ्र गगन अनंत शांति को प्रकट करता है. उसी तरह चिदाकाश भी जब वृत्तियों से रहित होता है तो निर्मलता को प्रकट करता है

आर. अनुराधा

स्तन कैंसर स्तन में शुरू होता है। जब तक यह स्तन तक सीमित है, इससे मरने का अंदेशा नहीं है।


Download Torrent file in IDM
आमिर  दुबई 
डियर रीडर्स , आज मै आपको बताता हूँ की आप टोरेंट फाइल को किस तरह इंटरनेट डाऊनलोड मेनेजर में डाऊनलोड कर सकते हैं। अच्छी तरह से आप इसका तरीका समझ लें ,ताकि आप आसानी से टोरेंट फाइल को 

विंडोज 7 में कैलकुलेटर का उपयोग कैसे करें
Abhimanyu Bhardwaj
Windows के भीतर calculator बहुत ही महत्‍वपूर्ण features है,


विकेश कुमार बडोला

राष्‍ट्रीय एकता परिषद की बैठक में एक बार फिर प्रधानमन्‍त्री ने यूपीए की अकर्मण्‍यता का ठीकरा पूरे देश पर फोड़ा। पता नहीं यह वार्षिक बैठक थी यह परिस्थितिजन्‍य। लेकिन जो भी है सार्वजनिक मंचों से प्रधानमन्‍त्री द्वारा जताई गईं देशव्‍यापी चिंताओं का उद्देश्‍य आखिर 

इन दिनों सतीश जी का लिखने का उत्साह देखकर कितना अच्छा लगता है न एक मन ने कहा , एक के बाद एक नायाब शेर लिख मार रहे है ! और ताऊ जी हर दुसरे दिन एक पोस्ट लिखने वाले पता नहीं इन दिनों कहाँ ग़ायब से हो गए है लगभग तीन हफ्ते से एक भी नई पोस्ट नहीं आयी उनकी !

आज के प्रसारण को यहीं पर विराम देते हैं,इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये,मिलते हैं फिर से एक नए उमंग के साथ अगले गुरुवार को कुछ नये चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ, आपका दिन मंगलमय हो 

13 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर लिंक्स सजे हैं आज के प्रसारण में! आपका बहुत आभार!

    ReplyDelete
  2. सीमित संख्या में सभी पठनीय लिंक्स...आभार !!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्रों का प्रसारण..

    ReplyDelete
  4. सुन्दर-पठनीय संकलन - कुछ महत्वपूर्ण चिट्ठों का

    ReplyDelete

  5. बड़े - बुजुर्गों के साये में , शैशव पाता है संस्कार
    जो आया की गोद पला हो , वह क्या जाने लाड़-दुलार ||

    आनंद क्या परमानंद की धार बहा दी आपने।

    हमारे समय का यह एक बड़ा विद्रूप है।

    ReplyDelete
  6. आभार भाई जी-
    सुन्दर प्रसारण

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सूत्र संकलन राजेन्द्र जी,
    मेरी रचना को शामील करने के लिए आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. बेजोड़ प्रस्तुतिकरण आदरणीय प्रिय मित्रवर आपका श्रम सराहनीय है खूबसूरत अंदाज में आज का प्रसारण बेहद सुन्दर एवं पठनीय सूत्रों से सुसज्जित है हार्दिक आभार आपका.

    ReplyDelete
  9. मेरी रचना को शामील करने के लिए आभार आपका !

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंक संयोजन, आभार।

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत धन्‍यवाद राजेंद्र जी ...

    ReplyDelete