ब्लॉग प्रसारण पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!!!

वैसे तो इस तरह के तमाम ब्लॉग उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं. इस ब्लॉग को शुरू करने का हमारा उद्देश्य कम फोलोवर्स से जूझ रहे ब्लॉग्स का प्रचार करना एवं वे लोग जो ब्लॉग बनाना चाहते हैं परन्तु अज्ञान वश बना नहीं पाते या फिर अपने ब्लॉग का रूप, रंग ढंग नहीं बदल पाते उनकी समस्या का समाधान करना भी है. परन्तु यदि नए ब्लॉग नवीनीकरण (अर्थात update ) नहीं होंगे उनके लिंक नहीं लगाये जायेंगे उनकी जगह अन्य लिनक्स को स्थान दिया जायेगा. साथ ही साथ प्रतिदिन एक या दो विशेष रचना "विशेष रचना कोना' पर प्रस्तुत की जायेंगी और "परिचय कोना" पर परिचय भी दिया जायेगा. ब्लॉग में किसी भी तरह की समस्या को इस पते पर लिख भेजें : blogprasaran@gmail.com समाधान हेतु यथासंभव प्रयास किया जायेगा....

नोट : सभी ब्लॉग प्रसारण कर्ता मित्रों से अनुरोध है कि वे अपने पसंद के सीमित लिंक्स अर्थात अधिकतम (10-15) ही लिंक्स लगायें ताकि सभी लिंक्स पर पहुंचा जा सके.


मित्र - मंडली

पृष्ठ

ब्लॉग प्रसारण परिवार में आप सभी का ह्रदयतल से स्वागत एवं अभिनन्दन


Tuesday, May 28, 2013

ब्लॉग प्रसारण अंक - 9


"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम . ब्लॉग प्रसारण में आप सभी का एक बार फिर से हार्दिक स्वागत है


सरिता भाटिया

Minakshi Pant
मन का मीत
जीवन में संगीत
यही है प्रीत
जीवन नैया
चल दूर खिवैया
ओ मेरे सैयां
सुन्दर कली
फूल बन के खिली
बिदाई भली

Rajendra Kumar



मीनाक्षी



Yashoda Agrawal



Brijesh Singh



Vandana



रश्मि शर्मा


Sunita Shanoo


इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये मिलते हैं अगले मंगलवार को आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ. शुभ विदा शुभ दिन.

30 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार..
    अच्छे व पसंदीदा लिंक्स का प्रसारण
    साधुवाद

    ReplyDelete
  2. अच्छे लिंक्स सुन्दर प्रसारण !!

    ReplyDelete
  3. आदरेया के गीत पर....
    वाह, कान्हा की प्रीत भला किसे बावरी नहीं बना देती है.राधा सी प्रीत और मीरा की दीवानगी हर मन चाहता है. सुंदर और मधुर गीत रचा गया है.गीत को थोड़ा विस्तार और मिल जाये तो आनंद रस में अतिशय वृद्धि हो जाये.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरुण sir शुक्रिया मार्गदर्शन के लिए

      Delete
  4. हाइकू-
    हाइकू में तुकांत इनके सौंदर्य को निखार गया है. विविध बिम्बों का कुशलता से चित्रण मन को मोह गया. बधाई

    ReplyDelete
  5. साज़िशें फिरती हैं कितने मुखौटे पहने
    उनकी चालों से सदा ख़ुद को बचाया जाए

    सामाजिक विषमताओं को शब्दों के चित्र में बखूबी उकेरा गया है. इस बेहतरीन गज़ल को साझा करने के लिए आदरणीय राजेंद्र जी, बहुत बहुत आभार....

    ReplyDelete
  6. अनुपम लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति ...
    आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया लिंक्स से सजा हुआ है प्रसारण का मंच।
    बहुत सुंदर

    ( ब्लाग परिवार से मेरा परिचय कराने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया भाई अरुण )

    ReplyDelete
  8. अप्रतिम व अद्यतन लिंक्स से साक्षात्कार
    साधुवाद अरुण भाई
    आभार....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आईना वही है
      चेहरे बदल गए

      रिश्ते,व्यवहार और भावनाओ को बहुत सजीव तरीके कविता के माध्यम से उकेरने के लिए आभार.

      Delete
  9. बेहतरीन पठनीय लिंकों के साथ अपनी पोस्ट को भी देख हादिक प्रसन्नता हुई.महेंद्र श्रीवास्तव जी का परिचय दिए, जिनसे इनके बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त हुई.इनके आलेख बहुत ही उच्च कोटि के होते हैं.

    ReplyDelete
  10. नमस्कार , कल मेरी भी रचना यहाँ थि किसी कारन वश आ नहीं सकी क्षमा
    अति सुंदर लिक आज के ........बधाई .........

    ReplyDelete
  11. लाजवाब चर्चा का अंदाज़ ...
    मेरी रचना को विशेष स्थान देने का शुक्रिया ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. माँ को ध्येय में रखकर लिखी गयी आपकी रचनायें बहुत ही उत्कृष्ट कोटि की होती हैं.

      Delete
    2. बिलकुल सही कहा आपने राजेंद्र भाई वैसे तो आदरणीय सर की हर रचना सुन्दर होती है परन्तु जब कभी भी कुछ भी माँ के ऊपर लिखते है तो सीधे सीधे ह्रदय में उतर जाती हैं. बेहद सुन्दर एवं हृदयस्पर्शी रचना हेतु अनेक अनेक बधाइयाँ आदरणीय यह माँ के आशीष का ही फल है.

      Delete
  12. हमारी रचना को यहाँ सम्मान देने के लिए में आपका तहे दिल से शुक्रिया अदा करती हूँ और भी बहुत सुन्दर लिंक्स है आपकी मेहनत को सलाम |

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया links अरुण बधाई
    और सबसे बढ़िया आज का परिचय
    महेंदर sir का परिचय पाकर ख़ुशी हुई

    ReplyDelete
  14. बहुत बढिया लिंक्स से सजा हुआ है प्रसारण का मंच....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार...

    ReplyDelete
  15. आपका ब्लॉग प्रसारण प्रभावशाली लगा. लम्बे अंतराल के बाद फिर से बहुत कुछ नया जानने को मिल रहा है..मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्‍दर प्रसारण आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की अचंम्भित करने वाली जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें MY BIG GUIDE

    शीर्ष पोस्‍ट
    गूगल आर्ट से कीजिये व्‍हाइट हाउस की सैर
    अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से
    मोबाइल नम्‍बर की पूरी जानकारी केवल 1 सेकेण्‍ड में
    ऑनलाइन हिन्‍दी टाइप सीखें
    इन्‍टरनेट से कमाई कैसे करें
    इन्‍टरनेट की स्‍पीड 10 गुना तक बढाइये
    गूगल के कुछ लाजबाब सीक्रेट
    गूगल ग्‍लास बनायेगा आपको सुपर स्‍मार्ट

    ReplyDelete
  17. सुन्दर ब्लॉग संयोजन अरुण जी .. बधाई !

    ReplyDelete
  18. जल बिन मछली: आदरणीय बृजेश भाई जी बहुत ही सुन्दर चौपाई छंद भाई जी वाकई जल के बिना कुछ भी संभव नहीं, जल के बिना धरा नहीं और जीवन भी नहीं, जल की अनमोलता कि बात बहुत ही सुन्दरता से बताई है आपने. इस सुन्दर रचना हेतु आपको हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  19. यहाँ सब बिकता है : वंदना जी बहुत ही सुन्दरता से और सहजता से बहुत कुछ कह दिया आपने, खरा सत्य आज के संसार में सब कुछ बिकता है वर्तमान परिस्थिति का बहुत सुन्दर वर्णन. लाजवाब रचना हेतु हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  20. अमि‍कलश सा आलिंगन: आदरणीया रश्मि जी प्रेम विरह का बहुत ही सुन्दर वर्णन किया है आपने. निःस्वार्थ प्रेम भाव का अनोखा एवं ह्रदयस्पर्शी लेख. मेरी ओर से हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  21. मन पखेरु उड़ चला फिर काव्य-संग्रह के लोकार्पण पर एक विशेष रिपोर्ट : आदरणीया सुनीता जी आपकी यह पुस्तक शहर शहर घर घर पहुंचे लोकप्रियता का नया आयाम मिले यही समस्त ब्लॉग प्रसारण के सदस्यों की ओर से हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर और उपयोगी लिंक्स अरून भाई! मेरी रचना को आज के प्रसारण में स्थान देने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  23. आज पहली बार आपके गुलशन में भ्रमण किया .....बहुत आनंद आया .....

    ReplyDelete
  24. बहुत उम्दा,लाजबाब लिक्स ,,प्रसारण कर्ता दवारा चर्चा में खुल कर भाग लेना मुझे बहुत अच्छा लगा,,,अरुन जी बधाई

    Recent post: ओ प्यारी लली,

    ReplyDelete