ब्लॉग प्रसारण पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!!!

वैसे तो इस तरह के तमाम ब्लॉग उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं. इस ब्लॉग को शुरू करने का हमारा उद्देश्य कम फोलोवर्स से जूझ रहे ब्लॉग्स का प्रचार करना एवं वे लोग जो ब्लॉग बनाना चाहते हैं परन्तु अज्ञान वश बना नहीं पाते या फिर अपने ब्लॉग का रूप, रंग ढंग नहीं बदल पाते उनकी समस्या का समाधान करना भी है. परन्तु यदि नए ब्लॉग नवीनीकरण (अर्थात update ) नहीं होंगे उनके लिंक नहीं लगाये जायेंगे उनकी जगह अन्य लिनक्स को स्थान दिया जायेगा. साथ ही साथ प्रतिदिन एक या दो विशेष रचना "विशेष रचना कोना' पर प्रस्तुत की जायेंगी और "परिचय कोना" पर परिचय भी दिया जायेगा. ब्लॉग में किसी भी तरह की समस्या को इस पते पर लिख भेजें : blogprasaran@gmail.com समाधान हेतु यथासंभव प्रयास किया जायेगा....

नोट : सभी ब्लॉग प्रसारण कर्ता मित्रों से अनुरोध है कि वे अपने पसंद के सीमित लिंक्स अर्थात अधिकतम (10-15) ही लिंक्स लगायें ताकि सभी लिंक्स पर पहुंचा जा सके.


मित्र - मंडली

पृष्ठ

ब्लॉग प्रसारण परिवार में आप सभी का ह्रदयतल से स्वागत एवं अभिनन्दन


Monday, July 29, 2013

सोमवारीय अंक

नमस्कार मैं नीरज कुमार 'नीर' आपका स्वागत करता हूँ ब्लॉग प्रसारण के इस अंक में .. आज सोमवार की सुबह पुनः हाजिर हूँ , कुछ नए चुने हुए लिंक्स के साथ ,
सतीश सक्सेना
 
क्रंदन करते आया जग में
अमृत रस का पान मिला
स्नेह जलधि सा ममता पाया
जीवन रस सुख सार मिला
रवीश कुमार
डॉ सारिका मुकेश

गुल था मैं गुलजार का,
 पात्र था सब के प्यार का,
 मुझसे चमन की रौनक थी,
मैं राजा था बहार का...

टंच माल है सौ टका, चाट चंट चंडाल |
 थूक थूक के चाटता, खूब बजावे गाल |
और इसी के साथ मुझे दीजिये इजाजत , फिर मुलाकात होगी अगले सोमवार को, तब तक के लिए शुभ विदा

8 comments:

  1. बहुत सुंदर लिंक्स ,,,आभार नीरज जी...

    RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सूत्रों से सजाया है आपने आजका मंच नीरज जी … आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत आभार
    आदरणीय नीरज जी-
    सुन्दर लिंक्स-
    उम्दा प्रसारण-

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सूत्रों से सजाया है आपने आजका मंच नीरज जी,बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  5. आदरणीय भाई नीरज जी बहुत ही सुंदर लिंक्स सजाये हैं हार्दिक आभार आपका.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया ब्लॉग प्रसारण प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  7. प्रिय नीरज जी सुन्दर प्रस्तुति अच्छा संकलन ...मेरी रचना ईमान नेकी की गठरी ले किसे थमाऊँ को मान मिला इस मंच पर ख़ुशी हुयी
    जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete